November 24, 2020

Only News 24X7

Only news

कैंसर के मरीज़ो को कोरोना का ज्यादा खतरा

कोरोना एक महामारी बन के उभर चूका है l बता दे डॉक्टरों के अनुसार कोरोना वायरस का खतरा उन लोगों को ज्यादा है , जिन्हें पहले से कोई ना कोई बीमारी है और इनमें सबसे घातक कैंसर है l बता दे एक नई स्टडी के अनुसार कैंसर के वो मरीज जिनकी बीमारी का असर उनके खून और फेफड़े पर पड़ चुका हो या उनके पूरे शरीर में ट्यूमर फैल चुका हो, उनमें कैंसर ना होने वाले covid-19 के मरीजों की तुलना में मौत या अन्य गंभीर जटिलताओं का खतरा अधिक होता है l बता दे इस स्टडी में चीन के हुबेई प्रांत के 14 अस्पताल शामिल थे, जहां यह महामारी फैली थी l इनमें 105 कैंसर के मरीज और उसी उम्र के 536 वो मरीज थे जिन्हें कैंसर नहीं था l ये सभी मरीज Covid-19 से पीड़ित थे. चीन, सिंगापुर और अमेरिका के लेखकों ने पाया कि सिर्फ कोरोना के मरीजों की तुलना में Covid-19 के कैंसर मरीजों की मृत्यु दर लगभग तीन गुना अधिक थी l बता दे स्टडी में कहा गया है कि बिना कैंसर वाले कोरोना के मरीजों की तुलना में कोरोना वाले कैंसर के मरीजों को देखभाल की ज्यादा जरूरत होती है जैसे आईसीयू में भर्ती करना और वेंटिलेशन पर रखना l कैंसर का यह खतरा सिर्फ उम्र के हिसाब से नहीं बल्कि इस पर भी निर्भर करता है कि यह कौन सा कैंसर है, किस चरण में है और इसका इलाज कैसे किया जा रहा l बता दे निष्कर्षों से पता चलता है कि Covid-19 के प्रकोप में कैंसर वाले मरीज आसानी से आ सकते हैं क्योंकि इम्यून सिस्टम कमजोर होने की वजह से उनमें संक्रमण फैलने का खतरा ज्यादा होता है l बता दे स्टडी को लेकर अमेरिकन एसोसिएशन फॉर कैंसर रिसर्च की वर्चुअल वार्षिक बैठक में जारी किया गया और संगठन की समीक्षा पत्रिका के कैंसर डिस्कवरी अंक में इसे प्रकाशित किया गया. इससे पहले की स्टडी में कैंसर और Covid-19 के सिर्फ 18 मरीजों को शामिल किया गया था l बता दे विशेषज्ञों के अनुसार, कैंसर के मरीजों के अत्यधिक संवेदनशील होने के कई कारण हैं. कैंसर ना सिर्फ इम्यून सिस्टम पर दबाव डालता है बल्कि इसके मरीज जल्दी बूढ़े होने लगते हैं. यह दोनों लक्षण Covid-19 के लिए खतरनाक हैं l